सपने है संजोने

इच्छाएँ व्यक्ति को  जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है , जो इच्छाए पालता है और फिर उनकी पूर्ति के लिए सतत प्रयास भी करता है  वही जीवन में आगे बढ़ जाता है | जिसकी कोई इच्छा ही नहीं उसका जीवन समाप्त हो गया समझना चाहिए , क्योंकि कोई इच्छा ही नहीं रखने वाला का जीवन स्थिर हो जाता है और वह केवल अपने हिस्से की सांसो को लेकर छोड़ने और फिर चुपचाप इस दुनिया से विदा हो जाने जैसा है |  कुछ लोग इच्छाएँ तो करते है ,लेकिन उनकी पूर्ति में जो संघर्ष करना पड़ता है ,उनसे घबराकर वे अपनी इच्छाओ का गला घोंट देते है और संतोष मिलने का नाटक करते है हालांकि संतोष नाम का गुण उनमे नहीं होता , वे केवल दिखावा करते है भीतर से अशांत बने रहते है और अपने भाग्य को कोसते  रहते है  | अपनी इच्छा को लेकर वे कभी संघर्ष नहीं करते , मन से प्रयास नहीं करते और जीवन भर दुखी रहते है |

यदि आप सुख -समृधि ,शांति ,और सफलता पाना चाहते है तो मन में कुछ कर  गुजरने ,कुछ अनोखा हासिल करने की इच्छा अपने मन में जागृत कीजिये | हमेशा नई – नई  अभिलाषाए पैदा कीजिए |  यह सोचकर एक ही परीस्थिति में रहकर रोते न रहिए की ईश्वर ने आपके भाग्य में इतना ही लिखा है | ईश्वर कभी अन्याय नहीं करता उसने सबको एक जैसा बनाया है सबको काम करने के लिए दो हाथ , आगे बढने के लिए दो पैर , और सुझबुझ के साथ कार्य करने के लिए एक मस्तिष्क दिया है और सबको बराबर का समय भी दिया है |

अब आवश्यकता है इसके सही उपयोग की अब निर्णय कीजिए की आपको अपने जीवन में क्या करना है और संजो लीजिए खुबसूरत सपनों को |

इच्छाएँ करने , सपने देखने और सुझबुझ तथा परिश्रम से अमल के कारण ही आज मानव संसार भर के प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ  माना गया है | विचारो , सपनो और इच्छाओ ने ही विकास को गति दी  है | 

Sharing is caring!

Loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!