क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति?

मकर संक्रांति, जिसे पतंगो का त्योहार भी कहा जाता है, यह एक भारत का लोकप्रिय त्योहार है। इसे पंजाब में माघी के नाम से जाना जाता है। उत्तर प्रदेश में  त्योहार खिचीरीके नाम से जाना जाता है गुजरात और राजस्थान में, त्योहार उत्तरायण के रूप में जाना जाता है। यह त्योहार सूर्य भगवान को समर्पित करता है |

मकर संक्रांति क्यों मनाया जाता है सूर्य के एक राशि से दूसरी राशि में जाने को ही संक्रांति कहते हैं इस दिन कई स्थानों पर सूर्य भगवान की पूजा की जाती है 14 जनवरी यह एक ऐसा दिन है, जब धरती पर नये दिन की शुरुआत होती है . ऐसा इसलिए कि सूर्य दक्षिण के बजाय अब उत्तर की ओर गमन करने लगता है |  जब तक सूर्य पूर्व से दक्षिण की ओर गमन करता है तब तक उसकी किरणों का असर खराब माना गया है, लेकिन जब वह पूर्व से उत्तर की ओर गमन करते लगता है तब उसकी किरणें सेहत और शांति को बढ़ाती हैं

मकर संक्रांति को फसल उत्सव भी कहा जाता है  है  क्योंकि यह वसंत के मौसम के आगमन को चिह्नित करने के लिए भी बड़ी धूमधाम से पुरे भारत देश में मनाया जाता है।

पतंग फ्लाइंग:  गुजरात और राजस्थान में  उत्तरायण पर्व के रूप में मनाया जाता है . पतंग उत्सव का आयोजन  धूमधाम से किया जाता है आकाश में पतंगे उड़ाई जाती हैं  |

उत्सव: आम तौर पर लोहरि उत्सव के बाद एक दिन मकर संक्रांति मनाया जाता है। आम तौर पर यह हर साल 14 जनवरी को ही मनाया जाता है । यह भारत के विभिन्न भागों में बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। इस दिन लोग नए – नए कपड़े पहनते हैं और मिठाई वितरित करते हैं। और लोग इस दिन गुड़, तेल, कंबल, फल, छाता आदि दान करते है | 

 मकर संक्रांति का महत्त्व: 

मकर संक्रांति का त्यौहार बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह मकर के राशि चक्र में सूरज के संक्रमण को संदर्भित करता है।

मकर संक्रांति लोगों के बीच एकता की भावना को बढ़ावा देता  है

लोग अपनी पिछली शिकायतों को भूल जाते हैं और एक दूसरे को क्षमा करते हैं।

चूंकि यह फसल उत्सव है, इसलिए यह किसानों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *