हस्तमैथून को लेकर हमारे समाज मे आज भी कई गलतफैमियाँ हैं

हस्तमैथून को लेकर आज भी हमारे समाज मे कई ऐसी गलत धारणाएं और मिथक मान्यता है,जो पूरी तरह से गलत है। आज हम आपको अपने  इस  आर्टिकल के माध्यम से ऐसे ही कुछ बेबुनियाद तथ्यों और गलतफैमियों के बारे में बताएंगे।

गुप्तांगो को पहुता है नुकसान

अगर कोई पुरुष या महिला अपने गुप्तांगो के साथ हस्थमैथुन करता है तो उनके गुप्तांगो को कोई नुकसान नही पहुचता है। और ये सोच बिल्कुल गलत है कि हस्तमैथुन गुप्तांगो को हानि पहुचता है।परंतु किसी भी चीज़ की अधिकता अच्छी नही होती है। अगर आप अत्याधिक हस्तमैथुन करते है या सेक्स टॉय का इसतेमाल करते हैं तो गुप्तांगो में खुजली या जलन होने की संभावना हो सकती है।

सेक्स के प्रति उत्तेजना कम हो जाती है

यह बात पूरी तरह से गलत है कि हस्तमैथुन करने वाले पुरुषों या महिलाओं में सेक्स के प्रति रुचि धीरे-धीरे कम होने लगती है। ऐसे कोई बात नही है।पुरुष औऱ महिला दोनो में ही सेक्स के प्रति अलग-अलग प्रतिक्रिया दिखाई दे सकती है।

शुक्राणुओं में कमी होना

कुछ गलतफैमियाँ ये भी हैं कि हस्तमैथुन या मास्टरबे करने से शुक्राणुओं में कमी अर्थात इनफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है। तो घबराने की बात नही है,जान लें कि ये बात गलत है।

मानसिक बीमारी का खतरा होना

हमारे समाज मे सेक्स और इससे सम्बंधित विषयों पर खुल कर बात नही होती,और यही करण है कि लोग खुद में ही कई गलतफैमियाँ पाल लेते है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि हस्तमैथुन से कोई मानसिक या दिमागी बीमारी नही होती ।

धोका देने की संभावना बढ़ जाती है

यह बात तो बिल्कुल गलत है कि मास्टरबे या हस्तमैथुन करने से आप के अंदर अपने पार्टनर को धोखा देने का भाव आ जाता है,ऐसा बिल्कुल भी नही है,कई लोग रिलेशनशिप में रहने के बावजूद भी हस्तमैथून करते है। इसमें कुछ गलत नही है।

हस्तमैथुन केवल जवान लोग ही करते हैं

ऐसा बिल्कुल भी नही है,की हस्तमैथुन सिर्फ यंग लोगो के लिए ही है,एक सर्वे में पाया गया है कि 70 से 95 प्रतिशत लोग जो कि यंग न होने के बाद भी हस्तमैथुन करते हैं और इसमें कोई बुराई भी नही है।

केवल पुरूष ही हस्तमैथुन कर सकते हैं

ऐसा सोचना बिल्कुल सही नही की केवल पुरुष ही हस्तमैथुन कर सकते है और महिलायें नही। और सर्वे में भी महिलाओं द्वारा किये गए हस्तमैथुन पर कुछ खास इन्फॉर्मेशन नही मिल पाती, क्योंकि हमारे समाज मे महिलाओं के प्रति काफी बंदिशे और पाबंदियां होती है तो ऐसे में अगर कोई महिला इस विषय पर चर्चा करें तो उसे गलत ही समझा जाएगा।परंतु महिलाओं का हस्तमैथून करने में कोई बुराई नही है और न ही इसका स्वास्थ्य पर कोई गलत प्रभाव पड़ता है।

Sharing is caring!

Loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!