फरेबी दुनियां – Farebi Duniya a Hindi Moral Story For Youngest Girls

दुनियां के बीच खुद की एक अलग पहचान बनाने का सपना लिए सांची अपने परिवार के खिलाफ जाकर बाहर दुनियां में कदम रखती है तो उसका कोई सहारा अपना नहीं होता । फिर भी वो हौसला करके आगे बढ़ने की कोशिश करती है, कुछ फरेबी लोग उससे झूठी सहानुभूति दिला उसे अपनी तरफ से एक मौका देते हैं कुछ कर दिखाने का।
सांची किसी की सच्चाई को न समझते हुए गैरों पर अपनों से भी ज्यादा विश्वास करने लगती है । जिन लोगों के साथ सांची मॉडलिंग का काम करती है उनके गलत इरादों से अंजान वो अपनी पूरी लगन व विश्वास से उनके बताये हर काम करती है ।
सांची के मॉडलिंग में फोटोज मैग्जीन्स के फर्स्ट कवर पर आने लगते हैं तो सांची को अपने सारे सपने सच होते नजर आते हैं । अब तो वो उन लोगों के बताये हर रास्ते पर चलने लगी । धीरे-धीरे सांची उनके इशारों पर नाचने वाली कठपुतली बन गई, जिसे वो लोग जब जैसे चाहें नचा सकते हैं, और सांची इससे खुश है कि कल तक जो उसके सपने थे आज वही हकीकत बन रहे हैं और इस बीच सांची को अपनों की कमी बहुत खलती है, उसका दिल करता है कि वो अपनी ये खुशियां अपनों के साथ बांटे पर शायद उसके अपनों को उसकी ये खुशियां मंजूर ही नहीं है,,, यही सोचकर वो अपने मन को समझा लेती है ।
एक दिन सांची को मॉडलिंग कॉन्टेस्ट के लिए दुबई जाने का मौका मिलता है, सांची बेहद उत्साहित होकर अपनी पूरी तैयारी के साथ दुबई पहुंचती है, एक अंजान जगह अंजान लोगों के बीच सांची खुद को असहज महसूस करती है मगर अपने सपनों की दुनियां हकीकत में बदलते देख सांची अपने मन के हर डर को भुला देती है, सांची के लिए आज का ये दिन सबसे खास है क्योंकि आज का ये मॉडलिंग कॉन्टेस्ट उसकी तक़दीर को बदल सकता है, खुली आँखों से सपनों की दुनियां को हकीकत में जीने की कोशिश में लगी सांची को नहीं पता कि जिस कॉन्टेस्ट में वो पार्टीसिपेट करने जा रही है उसकी सारी मॉडल्स छोटे-छोटे शहरों से आई बार गर्ल्स हैं,,,, ये कॉन्टेस्ट कराने वालों ने इन सभी को खरीद लिया है, और इन सभी के बीच सांची भी अब फंस चुकी है।
ये सच्चाई सांची को किसी तरह पता चलती है तो उसके पैरों तले जमीन खिसक जाती है,,,, उसके सुनहरे सपनों की दुनियां एकदम धुंधली पड़ जाती है, सांची कैसे भी इस दलदल से बाहर निकलने को छटपटाती है मगर वो उन लोगों के बीच कुछ नहीं कर पाती,,,, सांची को अपनों की एक बात याद आती है जो उसके परिवार छोड़ने पर सभी ने उससे कही थी कि… आज तू अपने सपनों की खातिर अपनों को छोड़कर जा रही है पर ये याद रखना कि सपने भी तभी अपने बनते हैं जब किसी अपने का साथ हो।
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
दोस्तों अब आप सोचिए कि सांची के इस हाल का जिम्मेदार कौन है??? खुद सांची? या सांची के परिवार वाले???
अगर सांची के परिवार वालों ने उसका साथ दिया होता… या फिर सांची ही अपने सपनों में इतनी अंधी न हुई होती कि उसको सही गलत कुछ दिखाई नही दिया ।

Sharing is caring!

Loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!