टेलीपैथी कैसे करें How to Send Message Using Telepathy Power

 टेलीपेथी की परिभाषा     

अपने विचारो को बिना किसी यांत्रिक उपकरण से दुसरो के मन में सन्देश भेजने को टेलीपेथी कहते है

योगी अपने विचार को बिना उच्चारण किए दुसरो तक भेज सकते है

हर स्थान व्यक्ति और वस्तु से सूक्ष्म तरेंगे निकलती है पक्षी इन तरोंगो को पकड कर सही दिशा में पहुँच जाते है  मनुष्य की मानसिक शक्ति बहुत अधिक होती

हमारे विचारो में वह शक्ति है जो हजारो मील दूर किसी मनुष्य पर असर करती है

हम हजारो मील दूर की आवाजे ऐसे सुन सकते है जैसे कोई हमारे पास बोल रहा हो

ये सूक्ष्म तरेंगे आकाश में व्याप्त ईथर में से होकर हमारे मस्तिष्क में आती है

हमारा अवचेतन मन इन तरंगो को ग्रहण कर लेता है मस्तिष्क में आकर यही तरंगे शब्दों में तब्दील हो जाती है

 

How to do Telepathy ?

 सबसे पहले आप आराम से बैठ जाए और अपने शरीर को शिथिल करे उसके बाद धीरे धीरे अपनी आँखे बंद करे और मन को विचार शून्य बनाए 

जब आपका मन विचार शून्य हो जाए तब जिस व्यक्ति को विचार सम्प्रेषित करना चाहते हो उसका चित्र अपने मन पटल में लाए और उस चित्र को अपना विचार भेजे ,आपका विचार एक ही होना चाहिए और बार बार उस एक विचार को चित्र के सामने दोहराए  , आपके विचार बहुत ही सूक्ष्म होते है इसलिए वह विचार उस व्यक्ति के  मन पहुँच जाते है ऐसा आपको २१ दिन तक करना चाहिए  या जब तक कोई परिणाम न निकले तब तक आप अपना अभ्यास जारी रखे , आपको सफलता अवश्य मिलेगी |

How to use telepathy in Hindi 

First Tip:-  टेलीपेथी का अभ्यास रात को ११ बजे के बाद करे क्योंकि उस समय वातावरण शांत होता है और सामने वाले इंसान का उपरी मन सोया रहता है |

Second Tip:-  अपने मन में एक ही विचार रखे क्योंकि मन में जितने कम विचार होंगे उतना ही हमारा मन शक्तिशाली होगा |

Third Tip:-  आप हमेशा सकारात्मक विचार ही दुसरो को भेजे जिससे आपको जल्दी ही टेलीपेथी का रिजल्ट मिलने लगेगा |

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *