गौतम बुध्द दार्शनिक नहीं दृष्टा है

 गौतम बुध्द दार्शनिक नहीं दृष्टा है, दार्शनिक वह होता है जो सोचे और दृष्टा वह है को देखे |

सोचने से दृष्टी नहीं मिलती  ,सोचना अज्ञात का हो नहीं सकता ,जो ज्ञात नहीं उसे हम भला सोचे भी तो कैसे ? सोचना तो ज्ञात के भीतर परीभ्रमण है |

सत्य अज्ञात है ऐसे ही अज्ञात है जैसे अंधे को प्रकाश अज्ञात हो , अँधा लाख चाहे तब  भी प्रकाश के बारे में क्या जान पाएगा |

ये भी पढ़े – ओशो की वो 11 बातें जो आपका जीवन बदल देंगी।।

आँख की चिकित्सा होनी चाहिए आँख खुलनी चाहिए | अँधा जब तक दृष्टा न बने तब तक सार हाथ नहीं लगेगा | भगवान गौतम बुध्द ने अपने अनुयायियों से कहा की सत्य के ज्ञान के लिए स्वयं आगे आये |

इस बात का  स्मरण रहे की गौतम बुध्द दृष्टा बनने पर जोर दे रहे है और वे नहीं चाह्ते है की लोग दर्शन के उआपोल में उलझे | इसलिए भगवान गौतम बुध्द ने कहा की तुम अपना दीपक खुद बनो ,क्योंकि दुसरो के दीपक से तुम्हारा दीपक नहीं जलेगा |

Sharing is caring!

Loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!