तेरे ख़तो से रुह निकालने कि कोशिश की है। मौजूद नहीं आप के अक्श संवारने कि कोशिश की है। बड़ी बेरुखी लेकर आया बसंत इस बार. तेरे खतो