इंसानियत  क्यों इंसान ही किसी इंसान में भेद करता है , इंसानियत के धर्म में जीने में खेद करता है , जहाँ चाँद सूरज का नूर हर दिशा