न जाने कहाँ खो गए हैं बचपन के वो एहसास, कितनी दूर हो गए हैं अपनों के हर साथ, जिस प्यार के साये में सीखा था जीने का