(बेबस जिंदगी ) अपनी किस्मत से मात खाती हूँ मैं जीत के भी हार जाती हूँ , मेरे आंसू समेट लेंगे वो खुद को अक्सर यूं ही बहलाती